Sat. Feb 4th, 2023

विकास की शब्दावलिमें प्रदूषण चिन्तनीय

विकास की शब्दावलिमें प्रदूषण चिन्तनीय (Pollution in development terminology) Dr. G. Bhakta article

 ऐसा सुनने में कितना बुरा लगता है जब हम अपने देश के बारे में नकारात्मक चर्चाये शुरु होती है । यहीं पर हमारा विश्वास टूट जाता है और हम सोचने लगते है अपनी तरक्की के ताम – झाम पर जिसकी आड़ में हमारे विकार वजवजाते दिख पड़ते है । सफाई पर ध्यान जाना तो दूर की बात , जब घर में टूट झाडू खरीदे नही जा रहे । घर की गंदगी पर बाद मे ही सोचा जाय , तबतक बरसात ने दस्तक दे डाली । वर्षा ने सारी गंदगी बहा कर दूर की । नाले भर गये । नदियाँ भर आयी । बाढ़ का प्रकोप भी यत्र – तत्र दिखने लगे । आँगन में घास उपज आये । किसी ने कहाँ – आँगन मे सर्प टहल रहा था । गढ़ों में घास – फूस . जंगल आदि सड़कर दुर्गन्ध फैलाने लगे । मच्छरों का आतंक , ज्वर , खाँसी , चर्म रोग , सताने लगे ।
 यह सारा प्राकृतिक खेल मानव और पालतू जन्तुओं के स्वास्थ्य पर भारी पड़ने लगे । बीमारी , उसकी चिकित्सा , उसमे खर्च , मर्ज और कर्ज का बढ़ना विकास को पछाड़ डालना प्रारंभ किया । हमारी जीवन की समरसता में व्यवधान खड़ा हुआ । व्यवस्था बिगड़ी । अस्वस्थता का असर अत्पादन और आय को प्रभावित कर डाला रुग्न विकास का सिलसिला चल पड़ा ।
 रोग अभिशाप है । शिक्षा , स्वास्थ्य और उत्तम आहार , कौशल और अर्थ व्यवस्था में सुधार । जीवन स्तर का सुखद अनुभव ही सही विकास के घोतक है । आराम , व्यसन , भोग , अशान्ति , चिन्ता और ग्लानि नरक के दृश्य उपस्थित करते हैं । स्वस्थ समाज , उन्नत के साथ सकारात्मक सोच राष्ट्र के विकास को श्रेय प्रदान करते है । उसमें भी आर्थिक असमानता में उन्नति अर्थहीन है । इससे समरस समाज की कल्पना नहीं की जा सकती । हमारी स्वस्थता परिवेश को पोषण प्रदान करे । यह भाव ही विकास का सम्बल बनता है । जीवन पारस्परिक सहयोग की भावना पर चलता है । अतः वैचारिक एकता समाज की शक्ति बनकर उभरती है , वही पर विरोध एवं संघर्ष एकता को तोड़ने और विकास का पैर पीछे खीचने वाली भूमिका के रुप में खड़ा होता है । आतंक फैलता है । युगों की संचित संस्कृति में विघटनकारी दशा और दिशा की शुरुआत विश्व को बुराई की ओर अग्रसर करता है ।
 एक ओर उदार वादी और वैश्विक उत्कर्ष की नीतियाँ बनती है , तो दूसरी ओर आतंकवाद समरसता समाप्त कर देता है । भय व्याप्त रहता है । भौतिक वादी सभ्यता का साधन आर्थिक मजबूती है । शोषण , लूट , संग्रह , और हिंसा के प्रचलन में आंतरिक आतंक फैलता है । जब राष्ट्र बाहरी और भीतर दोनों रूपों में आतंकित जीवन जीता है , वह समाज , राष्ट्र संस्कृति और मानव अस्तित्त्व पर खतरा का परिदृश्य खड़ा कर देता है ।
 विकास का स्थायित्व और सुदृढ़ नीव पर खड़ा रहना सम्यक सोच की विचारधारा की अपेक्षा रखता है लेकिन मानव की महत्त्वाकांक्षा महाशक्तियों , पूंजीपतियों उद्योग पतियों का एकाधिकार व्यवस्था की समरसता को तोड़ – मरोड़ डालता है । यहाँ पर समाज अपनी आत्मिक स्वतंत्रता जब समाप्त होते पाता है तो विकास की श्रृंखला टूटने लगती है । सामाजिक रचना छिन्न – भिन्न होने लगती है । वादों में विवाद हो तो सफल संवाद पर ग्रहण लगना स्वाभाविक हो जाता है । आज विश्व इसी विचारधारा का शिकार है । वैचारिक धरातल पर भौतिकता पर अंकुश एक भारी प्रदूषण है । हम ऐसी मानसिकता को विकास का कचड़ा कहे तो कोई गलत नही । तब तो संतोष से जीना भी दूभर लगता है । मानव को अपना अस्तित्त्व कायम रखने के लिए अपने में सतत शुचिता बनाये रखने की प्रतिवद्धता जरूरी होगी । अगला भविष्य इसी की अपेक्षा रखेगा ।
 द्वापर युग की कथा का सार महाभारत में लक्षित है । वहाँ युद्ध के बाद रोते – विलखते समाज का आँसू पोछने वाला न रहा । यह सीख देने के लिए व्यास तो नहीं आयेंगे । युधिष्ठिर जी का मुँह खुलेगा नहीं । कृष्ण पता नहीं कहाँ छिप जायेंगे । … लेकिन घर में रामायण – महाभारत गीतादि – ग्रंथ जो हमारे मार्गदशक बनेंगे । अब उन्हीं को साधन बनाना मानव के अस्तित्त्व को अक्षुण्ण रख पायेगा । सतोगुण , रजोगुण और तमोगुण से ऊपर उठकर निर्गुण का गुणगान ही एक साधन होगा ।
 कर्मण्येवाधिकारस्तुमांफलेसु कदाचन ।

 डा ० जी ० भक्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *