Fri. May 24th, 2024

Category: सोशल ट्रेंड्स

सन् 1948 की 30 जनवरी पूज्य बापू की पुण्य तिथि

सन् 1948 की 30 जनवरी पूज्य बापू की पुण्य तिथि डा० जी० भक्त कभी-कभी मेरे मानस में ऐसा ख्याल आया करता है कि धरती पर व्यावहारिक जीवन होने के साथ…

जनतंत्र हमारा, देश का प्यारा, हमसब का नारा जग से न्यारा

जनतंत्र हमारा, देश का प्यारा हमसब का नाराजग से न्यारा (डा० जी० भक्त) कवि प्रभात का कथन है:-सादगी स्वतंत्रय सेवा मंत्र है।भारती भारत भरत ये तंत्र है।तन वचनमन ये अनोखे…

भोग भावना, महत्त्वाकांक्षा एवं सत्ता सामर्थ्य के बीच कल्याण कामना

भोग भावना, महत्त्वाकांक्षा एवं सत्ता सामर्थ्य के बीच कल्याण कामना डा० जी० भक्त अगर हम सृष्टि के समस्त भौतिक स्वरूपों पर विचार करें तो सारे कल्याण कारी ही दृष्टि गोचर…

जीते तो सभी हैं किन्तु मृत्यु को गले लगाते है कोई-कोई

जीते तो सभी हैं किन्तु मृत्यु को गले लगाते है कोई-कोई डा० जी० भक्त जो भली प्रकार से जान गये है कि मृत्यु निश्चित है, व जीवन के क्षण को…

समलैंगिकता की अवधारणा मानव की कुर्तसित संस्कृति है।

समलैंगिकता की अवधारणा मानव की कुर्तसित संस्कृति है। डा० जी० भक्त प्रकृत्या सृष्टि में पुरुष और नारी जाति जीवों में स्पष्ट दृष्टिभोवर है जिनके दैहिक सम्बन्ध से सृष्टि चलती आ…

गरीब और गरीबी की संतोष ही मात्र दवा है।

गरीब और गरीबी की संतोष ही मात्र दवा है। डा. जी. भक्त रोग तो अपना है, लेकिन उसकी दवा सदा पराये के हाथो में हैं। हमें उसे प्राप्त करना होता…

कर्त्तव्य बोध और सामाजिक सरोकार की शिक्षा

कर्त्तव्य बोध और सामाजिक सरोकार की शिक्षा डा० जी० भक्त आज के सामाजिक जीवन मानव से जो अपेक्षाएँ हो सकती है उसके प्रति व्यक्ति की ज्ञानात्मक तैयारी की शिक्षा विद्यालयों…