Sun. Jun 23rd, 2024

विचारों की प्रखरता से सुदूर यात्रा की तैयारी

विचारों की प्रखरता से सुदूर यात्रा की तैयारी डा० जी० भक्त विचारों में चेतना का प्रवाह एवं उसके प्रति जागरूक और पोषक ज्ञान श्रृंखला पर मंथन अगर अपने लक्ष्य पर…

गरीब और गरीबी की संतोष ही मात्र दवा है।

गरीब और गरीबी की संतोष ही मात्र दवा है। डा. जी. भक्त रोग तो अपना है, लेकिन उसकी दवा सदा पराये के हाथो में हैं। हमें उसे प्राप्त करना होता…

प्रभाग-37 श्री रामचन्द्र जी से गुरु वशिष्ठ मुनि की विनती, रामचरितमानस

प्रभाग-37 श्री रामचन्द्र जी से गुरु वशिष्ठ मुनि की विनती, रामचरितमानस शिवजी का वचन है कि हे पार्वती! जहाँ के राजा श्रीरामचन्द्र जी ब्रह्म रूप सच्चिदानन्द ही हैं, उस अयोध्या…

प्रभाग-36 संत असंत के लक्षण, रामचरितमानस

प्रभाग-36 संत असंत के लक्षण, रामचरितमानस सनकादिक मुनिगण के प्रस्थान के बाद तिनो भाइयों ने राम जी के चरणों में नमन किया। कुछ पुछते हुए उन्हें संकोच हुआ तो हनुमान…

प्रभाग-35 राम राज्य की महिमा, सप्तम सोपान, उत्तर काण्ड, रामचरितमानस

प्रभाग-35 राम राज्य की महिमा, सप्तम सोपान, उत्तर काण्ड, रामचरितमानस जब रघुकुल भूषण राम जी चौदह वर्ष के बनवास और लंका विजय के बाद अयोध्या के राजा बन बैठे तो…

प्रभाग-34 श्रीराम जी का अयोध्या लौटना और राज्याभिषेक, सप्तम सोपान, उत्तर काण्ड, रामचरितमानस

प्रभाग-34 श्रीराम जी का अयोध्या लौटना और राज्याभिषेक, सप्तम सोपान उत्तर काण्ड, रामचरितमानस श्री राम जी का अयोध्या लौटना और राज्याभिषेकयह “राम चरित मानस राम कथा राम जन्म से लेकर…

प्रभाग-33 शेषांश, छठा सोपान, लंका काण्ड, रामचरितमानस

प्रभाग-33 शेषांश, छठा सोपान, लंका काण्ड, रामचरितमानस विभीषण का राज्यारोहन एवं तीनों वनवासियों का अयोध्या अवतरण रावण का सब संस्कार पूराकर विभीषण लौटकर प्रभु को सिर नवाये तब भगवान ने…